Latest News

50 km लम्बी मानव श्रंखला में शामिल होंगे एक लाख लोग , नगर निगम देहरादून का अनोखा आयोजन पांच नवंबर को ..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संकल्प पूरा कर रहा दून नगर निगम | पहले घर घर पहुंचाई पोलिथिन प्रयोग बंद करने की अपील | स्कूलों और बाज़ारों में आम जनता को किया मिशन में शामिल | अब तैयारी है सबसे बड़ी मानव श्रंखला बनाने की…. पचास […]
1 month ago

पहाड़ का ऐसा गाँव जहां देवताओं से पहले होती है मटियाल देवता की पूजा

मिशन मेरा गाँव आपको एक ऐसे गाँव ले चलेगा जहां जंगल को देवता के रूप में पूजा जाता है। उत्तरकाशी से 46 किलोमीटर दूर स्थित डुंडा ब्लाक में एक गांव है, जिसका नाम मट्टी है। आपको भले सुनकर अजीब लगे लेकिन यहां लोग जंगल को […]
1 month ago

बड़े बड़ों को अपनी बाइक राइडिंग से हैरान कर रही चैंपियन सुचेता

उत्तराखंड की बेटी चाहे पहाड़ के दुर्गम गाँव में हो या देश के किसी भी हिस्से में …वो जहां भी रहती हैं अपने हौसले से नई सफलता जरूर रचती है…आज आपके साथ बात बाइकर सुचेता से …..जिसने थोड़े समय पहले ही विश्व की सबसे ऊंची […]
1 month ago

राष्ट्रपति कोविन्द ने IITan वशिष्ठ को आखिर क्यों दिया गोल्ड मैडल

उत्तराखंड के रुड़की में गरीब बच्चों को मुफ्त में पढ़ाने वाले आईआईटी रुड़की के एक छात्र अनंत वशिष्ठ को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्वर्ण पदक देकर सम्मानित किया। अनंत को ये गोल्ड मेडल यूथ लीडरशिप के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए मिला है। अनंत […]
1 month ago

जानिए आखिर कहां शवयात्रा में ढोल नगाड़ों के बीच लोग करते हैं झूमकर डांस !

क्या आपने शवयात्रा में किए जाने वाले किसी डांस के बारे में सुना है। अजीब लगेगा सुनकर लेकिन जनाब उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में अब भी एक ऐसी ही अनोखी संस्कृति जिंदा है। यहां किसी बुजुर्ग के मरने पर शव यात्रा को मोक्षघाट तक गाजे […]

जानिए ,आखिर क्यों पहाड़ की लड़कियों ने तैयार की एक खास आर्मी ?

पहाड़ों में नृत्य संगीत के माध्यम से युद्ध-कला का प्रदर्शन बहुत पहले हुआ करता था। नई बात ये है कि अब ये जौहर लड़कियां दिखा रही हैं। गढ़वाल में लड़कियों का पहला म्यूज़िकल बैंड देश में अपने आप में अनोखा हैं। सरैयां नृत्य के नाम […]

अफसर बेटों की ये माँ आखिर क्यों बनाती है पहाड़ी नमकीन ?

पिथौरागढ़ से आज हम आपके लिए लाए हैं सफलता और मेहनत की जीती जागती कहानी देवकी देवी की …. लगभग 55 साल की देवकी के माथे में तेज दिमाग में रोजाना नए प्रयोगों के साथ पोसिटिव सोच ने उन्हें अब तक जवान बनाये रखा है। […]

उत्तराखंड की भावना नेशनल जूडो चैंपियन से कैसे बनी बेहतरीन अदाकारा ?

लड़कियां पहाड़ की हमेशा से ही सशक्त और मजबूत इरादों की मानी जाती है… ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि उत्तराखंड के इतिहास में न जाने कितने ऐसे उदाहरण हमारे सामने मौजूद हैं। आज इसी कड़ी में बात भावना बर्थवाल की करते हैं…. भावना […]

उत्तराखंड के ग्रामीण कर रहे बड़ी इलायची की खेती, सरकारी सहयोग की दरकार

बड़ी इलायची या लार्ज कार्डेमम को मसाले की रानी कहा जाता है । इसका उपयोग खाने का स्वाद बढाने के लिए किया जाता है लेकिन इसमें औषधिय फायदे भी होते है । बड़ी इलायची से बनने वाली दवाईयों का उपयोग पेट दर्द को ठीक करने […]

शानदार कारीगरी और पहाड़ के हुनरमंद लोग क्यों है मजबूर ?

पहाड़ में उद्योगों व स्वरोजगार को बढ़ावा देने का सरकार भले ही कितने दावे करें, मगर हालात इसके अलग ही दिखाई देते हैं। देश ही नहीं विदेशों में भी विख्यात अल्मोड़ा की ताम्र शिल्प कला सरकारी उपेक्षा के चलते अब विलुप्ति के कगार पर है। […]

हिमालय में आखिर कहां है वो स्थान जहाँ साक्षात देवता बसते हैं

पहाड़ की ऊंची चोटी पर आखिर किसने लिखा है ओम ….कुछ लोग कहते हैं कि ॐ का यह चमत्कार साबित करता है कि यह जगह एक आध्यात्मिक जगह है और भगवान शिव यहाँ पर विराजित हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं ओम पर्वत […]

पलायन को एक अभिशाप नहीं चुनौती मानते है युवा

रंगों से खुशहाली और चित्रकारी से पलायन को ठेंगा दिखाते पहाड़ के कुछ लोग….हमारे पहाड़ के गांव वीरान होते जा रहे हैं। इन घरों में कभी जीवन बसता था वह खंडहर हो चुके हैं। चंबा ब्लॉक का सौड़ भी एक ऐसा ही गांव है। एक वक्त […]

सार्थक योजनाओं के अभाव में शहरों की ओर रुख कर रहे पहाड़ी युवा

आज मिशन मेरा गांव आपको नौगांव-चलनीछीना जिला अल्मोड़ा के बारे में बता रहा है। हम इस गांव के कुछ खास पहलुओं से आपको रूबरू करा रहे हैं । इस गांव से काफी संख्या में लोग पलायन कर चुके हैं, सच तो ये है कि लोग […]

राज्य आंदोलन से जन्मी पुष्पा के हौसले से आखिर कैसे पस्त हुआ पहाड़ में शराब का कारोबार ?

पुष्पा चौहान पहले उत्तराखंड राज्य आंदोलन का हिस्सा रहीं, फिर शराब के खिलाफ मुहिम की अगुआ बनीं और अब पूरे मनोयोग से ग्रामीण महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने में जुटी हुई हैं। यह उनके 25 साल के संघर्ष का प्रतिफल ही है कि आज उत्तरकाशी के […]